होमरूल (गृहशासन) लीग – तिलक व ऐनी बेसेंट

1914 में तिलक जेल से रिहा हुए और उन्होंने पाया की नरम पंथियों की नेतृत्त्व में कांग्रेस एक निष्क्रिय संगठन बन चुकी थी, ऐसी स्थिति में तिलक और ऐनी बेसेंट ने होमरूल लीग आन्दोलन प्रारंभ करने का निर्णय लिया। यह आन्दोलन आयरलैंड के होमरूल आन्दोलन से प्रभावित था।
तिलक व ऐनी बेसेंट ने अपने अपने कार्य क्षेत्रों को बांटकर यह आन्दोलन प्रारम्भ किया।

तिलक का होमरूल – Home Rule of Tilak

तिलक ने अप्रैल 1916 में बेलगाँव में हुए प्रांतीय सम्मेलन में इंडियन होमरूल लीग की स्थापना की। इसके प्रथम अध्यक्ष ” जोसेफ वैपटिस्टा” थे, अन्य सदस्य एन.सी. केलकर थे 
 
इस आन्दोलन का कार्यक्षेत्र कर्नाटक, महारष्ट्र (बम्बई को छोड़कर), मध्य प्रान्त व बरार (वर्तमान में महाराष्ट्र में है) । 
पत्रिका – केसरी (मराठी भाषा), मराठा (अंग्रेजी भाषा)
नारा – “स्वराज मेरा जन्म सिद्ध अधिकार है, और मै इसे लेकर रहूँगा”
 
 

ऐनी बेसेंट का होमरूल – Home Rule of Annie Besent

होमरूल आन्दोलन की योजना सबसे पहले ऐनी बेसेंट ने 1914-15 में प्रस्तुत की थी , ऐनी बेसेंट ने सितम्बर 1916 में मद्रास के अडयार में All India Home Rule League की स्थापना की
 
इस आन्दोलन के प्रथम अध्यक्ष “अरुंडेल” थे, अन्य सदस्य एस. सुब्रमण्यम अय्यर थे। (CGPSC IMP)
 
इस आन्दोलन का कार्यक्षेत्र तिलक के कार्यक्षेत्रों को छोड़कर शेष भारत व बम्बई था
 
पत्रिका – New India, Common Will (ऐनी बेसेंट)
उद्देश्य – दोनों होमरूल लीग की मांग डोमेनियन स्टेटस के तहत स्वशासन का मांग करना था
 

होमरूल (गृहशासन) लीग – तिलक व ऐनी बेसेंट 

 
होमरूल (गृहशासन) लीग - तिलक व ऐनी बेसेंट

आन्दोलन का विस्तार

 
  • बड़ी संख्यां में राष्ट्रवादी इसके सदस्य बने।
  • शीघ्र ही यह आन्दोलन लोकप्रिय हो गया ।
  • अनेक लोकप्रिय नेता जैसे – मोतीलाल नेहरु, तेज बहादुर सप्रू, मोहम्मद अली जिन्ना, भूलाभाई देसाई, लाला लाजपत राय, आदि लोगो ने लीग की सदस्यता ग्रहण की ।
  • लाला लाजपत राय द्वारा अमेरिका में होमरूल लीग की स्थापना की गई। (CGPSC IMP)
  • आन्दोलन के प्रचार प्रसार के लिए अनेक पत्र पत्रिकाएं व पोम्प्लेट का उपयोग किया गया।
(CGPSC IMP) – 1918 में तिलक होमरूल व ऐनी बेसेंट होमरूल लीग को मिला दिया गया।

सरकारी प्रतिक्रिया

 
  • सरकार ने दमनकारी निति अपनाते हुए तिलक की पत्रिका मराठा व केसरी के प्रकाशन पर प्रतिबन्ध लगा दिया
  • ऐनी बेसेंट गिरफ्तार कर लि गई।
  • 20 अगस्त 1917 भारत सचिव “मांटेग्यु” ने सुधारों की घोषणा की । (CGPSC IMP)

आन्दोलन की समाप्ति 

 
तिलक मांटेग्यु की घोषणा से संतुष्ट नहीं हुए, अतः उन्होंने आन्दोलन जारी रखा।
ऐनी बेसेंट ने घोषणाओं का स्वागत किया और अपना आन्दोलन स्थगित कर दिया।
1918 में तिलक Indian Unrest के लेखक “वेलेंटाइन शिरोल” पर मुकदमा करने के लिए इंग्लैंड चले गए और होमरूल लीग आन्दोलन शिथिल पड़ गया ।
नोट – गोपालकृष्ण गोखले द्वारा स्थापित ” Servants of India Society” के सदस्यों को होमरूल लीग में प्रवेश की अनुमति नहीं थी । (CGPSC Most IMP)
 

Add a Comment

Your email address will not be published.