भिलाई स्टील प्लांट एवं अन्य स्टील प्लांट छत्तीसगढ़

भिलाई स्टील प्लांट एवं अन्य स्टील प्लांट छत्तीसगढ़ – इसके पहले भाग में हमने Chhattisgarh Me Udhyog (Industries) ki Shuruaat aur Vargikaran के विषय में पढ़ा । आज हम छत्तीसगढ़ के लौह आधारित उद्योग भिलाई स्टील प्लांट और अन्य लौह उद्योग  के विषय में पढेंगे ।

भिलाई स्टील प्लांट – Bhilai Steel Plant

स्थान – भिलाई दुर्ग
स्थापना – द्वितीय पंचवर्षीय योजना ( 1956-1961 )
सहयोग – सोवियत संघ – USSR ( रूस-Russia )
उत्पादन वर्ष – 1959
क्षेत्र – सार्वजनिक क्षेत्र का उपक्रम ( Public Sector Unit – PSU )
अधीन – SAIL ( स्टील अथॉरिटी इंडिया लिमिटेड )

कच्चे माल की आपूर्ति – Supply of Raw Materials

  1. लौह अयस्क (Iron Ore) – दल्ली राजहरा (बालोद ) – दल्ली राजहरा में लौह अयस्क समाप्ति के कगार पर है अतः भविष्य में कांकेर जिले के रावघाट से लौह अयस्क की आपूर्ति की जायेगी ।
  2. कोयला (Coal) – कोरबा ( Korba )
  3. कोकिंग कोयला (Coking Coal) – बोकारो झारिया ( झारखण्ड )
  4. डोलोमाईट (Dolomite) – हिर्री माइंस ( बिलासपुर )
  5. चूना पत्थर (Limestone) – नंदिनी खुन्दनी माइंस – भिलाई
  6. मैगनीज (Manganese) – बालाघाट ( मध्यप्रदेश )
  7. विद्युत (Electricity) – NTPC कोरबा ( Korba )
  8. जल (Water) – तांदुला ( बालोद ) , गोंदली एवं रविशंकर जलाशय ( धमतरी – गंगरेल बाँध )

भिलाई स्टील प्लांट एवं अन्य स्टील प्लांट छत्तीसगढ़

मुख्य उत्पाद  – Main Product

इस सयंत्र द्वारा रेल की पटरियां, रेल के पहिये, इस्पात की प्लेट, छड़ आदि आदि का निर्माण किया जाता है ।
मुख्यतः इन उत्पादों में से स्टील प्लेटों का  निर्यात ब्रिटेन, अमेरिका, जापान, इटली आदि देशों में किया जाता है ।
रेल की पटरियां मुख्यतः ईरान, तुर्की, मिश्र, सुडौन आदि देशों में किया जाता है ।

विशेष   – Special

  • भारत एवं रूस के मैत्री के प्रतीक स्वरुप भिलाई में “मैत्रिबाग” की स्थापना की गयी है ।
  • भिलाई स्टील प्लांट के द्वारा “जवाहरलाल नेहरु चिकित्सा अनुसन्धान केंद्र” की स्थापना भिलाई के Sector 9 में की गई है ।
  • लोककला एवं संस्कृति के संरक्षण के लिए भिलाई में “नेहरु आर्ट गैलेरी” स्थापित है ।
  • तीजन बाई ( पांडवानी गायिका ), देवदास बंजारे ( पंथी नर्तक ), नेल्सन ( मूर्तिकार ) को भिलाई स्टील प्लांट के द्वारा संरक्षण प्राप्त है ।
  • भिलाई स्टील प्लांट के साथ ही राउरकेला , दुर्गापुर स्टील प्लांट का निर्माण द्वितीय पंचवर्षीय योजनाकाल में हुआ ।
  • भारत के कुल स्टील उत्पादन का लगभग 15% उत्पादन छत्तीसगढ़ में होता है ।

अन्य लौह इस्पात उद्योग  – Other Iron Steel Industries

  1. प्रकाश स्पंज आयरन – चाम्पा
  2. नोवा स्पंज आयरन – दगौरी (बिलासपुर)
  3. राजेन्द्र स्टील – सिलतरा रायपुर
  4. जिंदल स्टील पॉवर लिमिटेड – रायगढ़ – एशिया का सबसे बड़ा स्पंज आयरन कम्पनी
  5. नगरनार इस्पात सयंत्र – बस्तर NMDC द्वारा
  6. एस्सार इस्पात सयंत्र – बस्तर – हीरानार
नोट:
  • डिलमिली (बस्तर) में NMDC व SAIL द्वारा संयुक्त उपक्रम प्रस्तावित है
  • बस्तर में टाटा स्टील के प्रस्तावित इस्पात सयंत्र को स्थानीय निवासियों द्वारा विरोध किये जाने के कारण वापस ले लिया गया है

View Comments (0)