history

उत्तर वैदिक काल – राजनितिक जीवन

भारतीय इतिहास का यह काल जिसमें सामवेद, यजुर्वेद, अथर्वेद, ब्राह्मण ग्रन्थ, अरण्यक, उपनिषद की रचना हुई "उत्तर वैदिक काल" कहलाता… Read More

ऋग्वैदिक काल – राजनितिक संगठन

राजा का पद वंशानुगत हो गया था फिर भी उसे असीमित अधिकार प्राप्त नहीं थे, क्योंकि उसे कबीलायी संगठन से… Read More

ऋग्वैदिक काल – सामजिक जीवन

ऋग्वैदिक काल में संयुक्त परिवार की अवधारणा प्रचलित थी, पुत्र का जन्म हर्ष का विषय होता था, जबकि कन्या का… Read More

ऋग्वैदिक काल – आर्थिक जीवन

ऋग्वैदिक आर्यों का जीवन अस्थायी था, अतः उनके जीवन में कृषि की अपेक्षा पशुपालन का अधिक महत्व था । Read More

ऋग्वैदिक काल 1500 – 1000 B. C.

आर्य भारत में सर्वप्रथम पंजाब व अफगानिस्तान के क्षेत्र के आसपास बसे । इस क्षेत्र को सप्तसैन्धव प्रदेश कहा गया, जिसका अर्थ… Read More

ऋग्वैदिक काल – धार्मिक जीवन

ऋग्वैदिक काल में धार्मिक जीवन की प्रमुख विशेषता प्राकृतिक शक्तियों का मानवीकरण कर उसकी उपासना करना था । Read More