Ghatarani जतमई घटारानी मन्दिर गरियाबंद

Ghatarani
जतमई मंदिर और घाटरानी झरना गरियाबंद छत्तीसगढ़ के प्रमुख मंदिरों और पर्यटन स्थलों में से एक है। वन देवी के रूप में पूजा जाता है।
यह स्थान छत्तीसगढ़ राज्य के गरियाबंद जिले के पांडुका क्षेत्र में स्थित है, रायपुर से लगभग 90 की.मी. की दुरी पर स्थित यह पर्यटन स्थल एवं प्राचीन माता का मन्दिर छत्तीसगढ़ का एक प्रमुख स्थान है। 
जतमई मन्दिर से लगभग 20 की.मी. के दुरी में स्थित माँ घटारानी मन्दिर एवं झरना प्राक्रतिक सौन्दर्य से परिपूर्ण है।

Ghatarani पहुँच मार्ग

इस पहाड़ी से बहता झरना मन्दिर से लगा हुआ ही है ,भक्तगण यहाँ नहाकर माता के दर्शन कर सकते है। यह मार्ग थोडा कठिन सा है परन्तु जाया जा सकता है. यहाँ निचला और उपरी स्थान दोनों तरफ से आया जा सकता है, किन्तु उपरी ओर से आने में थोडा खतरा है। Jatmai Temple and Ghatarani Waterfall Gariyaband – जतमई घटारानी मन्दिर गरियाबंद।
छतीसगढ़ का सबसे प्राचीन मंदिर —  देवरानी जेठानी मन्दिर ताला गाँव

Khuntaghat – खूंटाघाट बांध या जलाशय – फारेस्ट बांध

खूंटाघाट बांध या जलाशय - फारेस्ट बांध
Khuntaghat Dam खूंटाघाट बांध या जलाशय – फारेस्ट बांध  – रतनपुर बिलासपुर – खूंटाघाट जलाशय या बांध एक वन विभाग का हिस्सा है जिसे अंग्रेजों द्वारा बनाया गया था। यह बांध पहाड़ियों से घिरा हुआ है और पिकनिक स्पॉट भी है।
इन्हें भी जरुर देखे :
युगल जोड़े की पसंदीदा जगह —  मनगट्टा वन्य जिव पार्क – राजनांदगांव

Khuntaghat Dam or Reservoir – Forest Dam  – खूंटाघाट बाँध – रतनपुर बिलासपुर

फारेस्ट एरिया का एक हिस्सा है जिसका निर्माण ब्रिटिश सरकार द्वारा किया गया था।  कहा जाता है की ब्रिटिश लोग अपना कार्य दिवस समाप्ति पर यहाँ अपनी थकान मिटाने या अपने मनोरंजन के लिए आते थे, इसके लिए यहाँ उन्होंने एक सर्किट हाउस भी बनाया था, जो की पहाड़ी के ऊपर है।  यह पहाड़ी जलाशय से लगी हुयी है।

Khuntaghat Dam खूंटाघाट बाँध पहुँच मार्ग 

Khuntaghat Dam or Reservoir – Forest Dam  – खूंटाघाट बाँध – रतनपुर बिलासपुर  बाँध बिलासपुर जिले का पुराना बांध है और यह जिले से लगभग 37-38 की.मी. की दुरी पर बिलासपुर अंबिकापुर राष्ट्रिय राजमार्ग से बांये हाथ में कुछ दुरी पर स्थित है। यहाँ पहुंचकर देखा जाये तो यह स्थान ऊँचा और जलाशय निचे की ओर है, निचे उतरने के लिए पहाड़ियों से चलकर जाना होता है जहाँ निचे उतरने के लिए सीढियों का निर्माण भी किया गया है।

Read more

Mangatta मनगट्टा वन्यजीव पार्क – राजनांदगांव

मनगट्टा वन्यजीव पार्क - राजनांदगांव
मनगट्टा वन्यजीव पार्क – राजनांदगांव  – यह एक जंगल सफारी की तरह है जो सरकार द्वारा बनाई गई है, मनगट्टा 
वन्यजीव पार्क में पिकनिक और मस्ती का आनंद लिया जा सकता है।
एक बहुत ही बेहतरीन और मौज मस्ती की जगह है, जहाँ परिवार, दोस्तों की टोली या फिर प्रेमी जोड़े आराम से जाकर Enjoy कर सकते है।
यह जगह दुर्ग से लगभग 25 किलोमीटर की दुरी में स्थित है, यह पेसेंजर रेलवे स्टेशन “मुढ़हिपार” से 3 किलोमीटर की दुरी में स्थित है।

Read more

Kendai -केंदई जलप्रपात कोरबा – पिकनिक स्पॉट

केंदई जलप्रपात कोरबा - पिकनिक स्पॉट
केंदई जलप्रपात कोरबा जिले की पोडी उपोरा तहसील में स्थित है, यहां घना जंगल भी है और पिकनिक मनाने के लिए यह एक बेहतरीन जगह है।

Kendai Waterfall Korba Picnic Spot  – केंदई जलप्रपात  – कोरबा अंबिकापुर मार्ग में स्थित है, यह कोरबा से चोटिया चौराहे से अंबिकापुर रोड में लगभग 40 की.मी. की दुरी में स्थित है,एवं इस रोड से हाथ से मुडकर लगभग 5 की.मी. जाने पर यह गाँव पड़ता है।
इन्हें भी जरुर देखे :

क्यों 2200 वर्षों से माँ बम्लेश्वरी मंदिर की है मान्यता ?

माँ बम्लेश्वरी मंदिर का प्राचीन इतिहास - डोंगरगढ़

बम्लेश्वरी मंदिर – प्राचीन इतिहास  एक प्रेम कहानी जहाँ से डोंगरगढ़ का इतिहास जुड़ा हुआ है, राजा विक्रमादित्य की स्तुति …

Read more