भारतीय बाजार के प्रकार और कार्य

भारतीय बाजार के प्रकार और कार्य – भारतीय अर्थव्यवस्था क्या है तथा इसका निर्धारण कितने आधार पर किया गया है, सारी जानकारी हमने पढ़ी है । इस पोस्ट में हम भारतीय बाजार एवं इसके प्रकार के बारे में जानेंगें ।

बाजार – Market

बाजार वह काल्पनिक क्षेत्र है जहाँ आर्थिक गतिविधियों का निष्पादन होता है, तथा जिस वजह से बाजार बना है उसका मूल गतिविधि “विनिमय” Exchange ( क्रय-विक्रय) है । इसमें एक बेचने के लिए उत्पादन व उत्पादन के लिए निवेश करेगा ।

बाजार के कार्य  – Function of Market

  1. आर्थिक वस्तुओं एवं सेवाओं का विनिमय ।
  2. अन्य आर्थिक गतिविधियाँ उपभोग, उत्पादन, निवेश ।
  3. क्रेता एवं विक्रेता को मिलाने के लिए ।
  4. बाजार बना है – सौदेबाजी से मूल्य का निर्धारण के लिए ।
  5. मांग व पूर्ति का संतुलन करने के लिए ।
  6. बाजार वह स्थान है जहाँ  मांग वक्र ( Demand Curve ) एवं पूर्ति वक्र ( Supply Curve ) एक दुसरे को काटते है और वस्तु एवं सेवा का मूल्य निर्धारण है । इसे ही बाजार मूल्य प्रणाली कहते है ।
Mathematically 3 चीजें होती है :-
1. मांग वक्र ( Demand Curve )
2. पूर्ति वक्र ( Supply Curve )
3. बाजार वक्र ( Market Curve )

Market and Types & Function of Market

बाजार के प्रकार  – Types of Market

एकाधिकार बाजार (Monopoly Market) – जहाँ एक ही आपूर्तिकर्ता ( Suplliers ) होता है । यहाँ आपूर्तिकर्ता राजा (King) होता है, और उपभोक्ता (ग्राहक) का शोषण होता है
उपभोक्ता को अच्छी किस्म का माल सही समय पर प्राप्त नहीं होता है । जैसे भारत में – डाक-तार एवं  रेल्वे इसी का उदाहरण है
अल्पाधिकार बाजार (Oligopoly Market) – जहाँ कुछ ही आपूर्तिकर्ता ( Suplliers ) होते है
प्रतिस्पर्धी बाजार (Competitive Market) – जहाँ बहुत से  आपूर्तिकर्ता ( Suplliers ) होते है, और उपभोक्ता (Consumer) राजा होता है, इनके पास बहुत से विकल्प होते है, इसी कारण इसमें गुणवत्ता अच्छी होती है। हर देश प्रतिस्पर्धी बाजार (Competitive Market) बनाने का प्रयास करता
  • आपूर्तिकर्ता के बीच आपसी समझौते को “उत्पादक संघ” ( Cartels ) कहा जाता है ।आपूर्तिकर्ता शोषक एवं उपभोक्ता का शोषण करते है – जैसे तेल के निर्यातक तेल के लिए, माइक्रोसोफ्ट व इंटेल का गठजोड़ अर्थात एक दुसरे के साथ बिकेगा
  • दुनियां का हर देश Monopoly एवं Oligopoly को रोककर Competitive Market लाना चाहता है ।
  • अमेरिका में Anti-Trust-Sermon लाया गया और Monopoly को तोडा गया ।
  • भारत में Monopoly को तोड़ने के लिए Competitive Act है ।
  • MRTP – Monopoly Restricted Trade Practice 1969.