भारत पर मुग़ल एवं अन्य राजवंश का शासन

भारत पर शासन करने वाले मुग़ल शासक से पहले जिन वंशों ने भारत पर आक्रमण कर दिल्ली में अपनी शासन को शुरू किया और कब तक किन किन शासकों ने राज किया इसकी जानकारी निम्नानुसार है —

गुलाम वंश

2. अराम शाह (1210-1211)
3. इल्तुतमिश (शम्स उद दीन)  (1211-1236)
4. रुकन उद दीन फिरोज (1236)
5. रजिया सुल्तान (रज़ियात उद दीन सुल्ताना) (1236-1240)
6. मुइज़ उद दीन बहराम (1240-1242)
7. अला उद दीन मसूद (1242-1246)
8. नासिर उद दीन महमूद (1246-1266)
10. मुईज़ उद दीन क़ायकाबाद (1286-1290)
11. कयूमर्स (1290)

खिलजी वंश

12. जलाल उद दीन फिरोज खिलजी (1290-1296)
14. कुतुब उद दीन मुबारक शाह (1316–1320)

तुगलक वंश

15. घियाथ अल-दीन तुगलक  उर्फ़ ग्यासुद्दीन तुगलक (1321-1325)
16. मुहम्मद बिन तुगलक (1325-1351)
17. महमूद इब्न मुहम्मद (1351)
18. फिरोज शाह तुगलक (1351-1388)
19. घियास-उद-दीन तुगलक II (1388–1389)
20. अबू बकर शाह (1389–1390)
21. नासिर उद दीन मुहम्मद शाह III (1390–1393)
22. अला-उद-दीन सिकंदर शाह I (1393)
23. महमूद नासिर उद दीन (1393–1394)
24. नुसरत शाह (1394–1399)
25. नसीरुद्दीन महमूद शाह (1399-1413)

सैय्यद वंश

26. खिज्र खान (1414-1421)
27. मुबारक शाह (1421-1434)
28. मुहम्मद शाह (1434-1445)
29. आलम शाह (1445-1451)

लोधी वंश

30. बहलोल लोधी (1451-1414)
31. सिकंदर लोधी (1489-1517)
32. इब्राहिम लोधी (1517-1526)

लोदी गार्डन में सिकंदर लोदी का मकबरा

मुगल वंश ने हिंदुस्तान को 19 शासक दिए। जिनमें पाँचवाँ शाहजहाँ था, जिसने दिल्ली में अपनी राजधानी स्थापित की। बाबर पहला मुगल शासक था और आखरी बहादुर शाह जफर ।

मुगल शासक

1. बाबर
जन्म  1483, शासन  1526-1530
पानीपत के प्रथम युद्ध में बाबर ने पहली बार तुलुगमा युद्ध पद्वति अपनायी। पानीपत युद्ध की विजय के बाद बाबर ने काबुल के प्रत्येक निवासी को चांदी का एक – एक सिक्का दिया। इस उदारता के लिए उसे कलन्दर की उपाधि दी गयी।
लगभग 48 वर्ष की आयु में 27 दिसम्बर 1530 को बाबर की मृत्यु हो गयी। उसे आगरा के आरामबाग में दफनाया गया तथा बाद में उसकी पूर्व इच्छानुसार काबुल में दफनाया गया।

2. हुमायूँ
जन्म 1508, शासन 1530-1539 और 1555-1556
पिता – बाबर
17 मई 1540 को हुमायूँ और शेरशाह के मध्य कन्नौज (बिलग्राम) का युद्ध हुआ, जिसमें हुमायूँ पराजित हुआ तथा शेर शाह ने दिल्ली और आगरा पर अधिकार कर लिया।
लेकिन हुमायूँ इस्लाम शाह सूरी (शेर शाह सूरी के पुत्र ) की मृत्यु के बाद 1555 में सिंहासन छीन लिया  था।

3. अकबर
जन्म 1542, शासन 1556-1605
पिता – हुमायूँ
अकबर लगभग 14 वर्ष ( 13 वर्ष 8 माह ) की  उम्र में ही राजगद्दी में विराजित कर दिए  गए थे, बैरम खां इनके संरक्षक थे । 1560 में अकबर ने बैरम खाँ को मक्का यात्रा का आदेश दिया। मक्का जाते समय पाटन में मुबारक खाँ ने बैरम खाँ की हत्या कर दी।
4. जहाँगीर (राजकुमार सलीम)
जन्म 1569, शासन 1605-1627
सलीम (जहाँगीर) अकबर का पुत्र था जो बादशाह अकबर के बाद राजसिंहासन पर बैठा। इनका पूरा नाम नूरुद्दीन मुहम्मद सलीम जहाँगीर था ।
5. शाहजहाँ (राजकुमार खुर्रम)
जन्म 1592, शासन 1627-1658
पिता – जहाँगीर     माता – नूरजहाँ (मेहरुनिस्सा)
लाल किला एवं शाहजहाँनाबाद का शहर, मुगल बादशाह शाहजहाँ द्वारा ई. 1639 में बनवाया गया था। इनका पूरा नाम शहाबुद्दीन मुहम्मद ख़ुर्रम शाहजहाँ था । इनके पिता जहाँगीर ने इन्हें शाहजहाँ की उपाधि दी थी ।
6. औरंगजेब (आलमगीर प्रथम)
जन्म 1618, शासन 1658-1707
पिता – शाहजहाँ
औरंगजेब ने अपनी बीवी के आग्रह पर ताजमहल की प्रतिकृति का निर्माण (1679) में करवाया, जिसे बीवी का मकबरा या द्वितीय ताजमहल के नाम से जाना जाता है ये औरंगाबाद में स्थित है ।
इनका पूरा नाम मुइनुद्दीन मुहम्मद औरंगजेब आलमगीर था ।
7. आज़म शाह
जन्म 1653, शासन 1653-1707 है
पिता – औरंगजेब     भाई – शाह आलम बहादुर शाह I (मुअज्जम)
मुगल सम्राट औरंगजेब की मृत्यु हो जाने पर उनका सबसे बड़ा पुत्र मुहम्मद आज़म शाह मुगल राजगद्दी पर बैठा परन्तु 19 जून 1707 को आज़म शाह को राजगद्दी से हटा कर स्वयं शहज़ादा मुअज़्ज़म, बहादुर शाह (प्रथम) के नाम से मुगल सम्राट बना।
8. शाह आलम बहादुर शाह I (मुअज्जम)
जन्म 1643, शासन 1707-1712 है
पिता – औरंगजेब     भाई – आजम शाह
‘शहज़ादा मुअज्ज़म’ कहलाने वाले बहादुरशाह, सम्राट औरंगज़ेब का दूसरा पुत्र था। अपने पिता के भाई और प्रतिद्वंद्वी शाहशुजा के साथ बड़े भाई के मिल जाने के बाद शहज़ादा मुअज्ज़म ही औरंगज़ेब के संभावी उत्तराधिकारी बना। बहादुर शाह प्रथम को ‘शाहआलम प्रथम’ के नाम से भी जाना जाता है।
9. अजीम उश-शान
जन्म 1664, शासन 1712
पिता – शाह आलम बहादुर शाह I (मुअज्जम) , भाई – जहाँदार शाह (मुईज़ुद्दीन)
ये सम्राट औरंगजेब के पोते थे, जिनके शासनकाल के दौरान 1697 में उनकी मृत्यु के बाद बंगाल , बिहार और ओडिशा के सूबेदार (वायसराय) थे और 1712 में उनकी मृत्यु हुई थी।
1712 में, अपने पिता की मृत्यु के समय, उन्होंने तुरंत खुद को सम्राट घोषित कर दिया। हालाँकि, वह कुछ ही समय बाद उत्तराधिकार के संघर्ष में रावी नदी की निकट युद्ध में अपने भाई के द्वारा मारे गए ।
10. जहाँदार शाह (मुईज़ुद्दीन)
जन्म 1661, शासन 1712-1713
पिता – शाह आलम बहादुर शाह I (मुअज्जम),  भाई – अजीम उश-शान
इनका पूरा नाम माजुद्दीन जहाँदार शाह बहादुर था । इसे लम्पट मुर्ख भी कहा जाता था । इसे लम्पट मुर्ख की उपाधि इतिहासकार ‘इरादत खां’ ने प्रदान की ।
11. फर्रुखसियर
जन्म 1683, शासन 1713-1719
पिता – अजीम उश-शान
इनका पूरा नाम अब्बुल मुज़फ़्फ़रुद्दीन मुहम्मद शाह फ़र्रुख़ सियर था।  फर्रुखशियर के पिता अजीम ओशान की 1712 में जहांदर शाह द्वारा हत्या कर दी गई थी और जहांदर शाह ने उनके पिता की मृत्यु कर मुगल सम्राट बने थे ।
अपने पिता की मौत का बदला लेने के लिए फर्रूखसियर ने शाह से बदला लेना सही समझा और 10 जनवरी 1713 में समूगढ के युद्ध में फर्रूखसियर ने जहांदरशाह की सेनाओं को पराजित किया समूहगढ के निकट और उसको हत्या कर दी गई इसके तहत 1713 में वे दिल्ली पहुंचे और लाल किले पर अपने आप को मुगल साम्राट घोषित किया ।
12. रफ़ी उद-दरजात
जन्म 1699, शासन 1719 (98 दिन )
पिता – रफ़ी उश शान
13. शाहजहाँ द्वितीय (रफ़ी उद दौला )
जन्म 1696, शासन 1719 (105 दिन )
पिता – रफ़ी उश शान
14. मुहम्मद शाह (रोशन अख्तर)
जन्म 1702, शासन 1719-1748
पिता – जहाँदार शाह (मुईज़ुद्दीन)
इन्हें मोहम्मद शाह रंगीला के नाम से भी जाना जाता है । मोहम्मद शाह रंगीला बहुत ही कमजोर शासक के रूप में ऊभरा ।
15. अहमद शाह
जन्म 1725, शासन 1748-1754
पिता – मुहम्मद शाह (रोशन अख्तर)
ये जब 14 साल के थे तब नादिरशाह ने भारत पर आक्रमण कर दिल्ली में भयानक लूटपाट मचाई थी 1748 में अपने पिता मोहम्मद शाह की मृत्यु के बाद गद्दी पर बैठे ।
16. आलमगीर II
जन्म 1699, शासन1754-1759
पिता – जहाँदार शाह (मुईज़ुद्दीन)
17. शाह आलम II (अली गौहर)
जन्म 1728, शासन 1759-1806
पिता – आलमगीर II
18. अकबर शाह द्वितीय (मुईनुद्दीन)
जन्म 1760, शासन 1806-18 7
पिता – शाह आलम II (अली गौहर)
19. बहादुर शाह ज़फ़र (अबू ज़फ़र)
जन्म 1775, शासन 1837-1858
पिता – अकबर शाह द्वितीय (मुईनुद्दीन)