छत्तीसगढ़ विशिष्ट भौगोलिक स्थल एवं प्रमुख नगरी

 
छत्तीसगढ़ यूँ तो बहुत से प्राक्रतिक संपदाओं तथा खनिजों से परिपूर्ण है, इसके साथ साथ छत्तीसगढ़ प्राकृतिक सौन्दर्य का भी धनी है । इसी प्रकार की कुछ भौगोलिक स्थल है जिनका विवरण निम्नानुसार है ।
छ.ग. की कायापलट करने वाले – छिन्द्क नागवंशी 

छत्तीसगढ़ विशिष्ट भौगोलिक स्थल

छत्तीसगढ़ में फूलों की घाटी – लोरोघाट ( जशपुर )
छत्तीसगढ़ का स्वीटज़रलैंड – सन्ना हिल ( जशपुर )
छत्तीसगढ़ का तिब्बत या शिमला – मैनपाट ( अंबिकापुर )
छ. ग. का प्रयाग – राजिम ( 5 वें कुम्भ का दर्जा प्राप्त )
छ. ग. का कश्मीर – चैतुरगढ़ ( कोरबा )
छ. ग. का खजुराहो – भोरमदेव (कवर्धा )
छ. ग. का चित्तौड – लाफागढ़ ( कोरबा )
छ. ग. का चेरापूंजी – आबुझमाड़ ( नारायणपुर )
छ. ग. का स्वर्ग – दण्डकारन्य
छ. ग. का काशी – खरौद ( जांजगीर चाम्पा )
छ. ग. का पेरिस – राजनांदगांव
छ. ग. का नियाग्रा फाल्स – चित्रकोट ( जगदलपुर ) (भारत का भी नियाग्रा )
बस्तर का प्रवेश द्वार – तेलिन घाटी / केशकाल घाटी
आबुझमाड़ का प्रवेश द्वार – ओरछा ( नारायणपुर )
पिकनिक के लिए सर्वोत्तम – छत्तीसगढ़ का मॉरिशस – बुका डैम

छत्तीसगढ़ विशिष्ट भौगोलिक स्थल एवं प्रमुख नगरी

छत्तीसगढ़ विशिष्ट भौगोलिक स्थल एवं प्रमुख नगरी
क्या है महत्व जानिये    – केंदई जलप्रपात – कोरबा
 

छत्तीसगढ़ की प्रमुख नगरी

छत्तीसगढ़ की संस्कारधानी – राजनांदगांव
छत्तीसगढ़ की ताप नगरी – कोरबा
छत्तीसगढ़ की ज्ञान नगरी – भिलाई (दुर्ग)
छत्तीसगढ़ में चौराहों का नगर – जगदलपुर
छत्तीसगढ़ में तालाबों का नगर – रतनपुर
छत्तीसगढ़ मंदिरों का नगर – आरंग ( रायपुर )
छत्तीसगढ़ की औद्योगिक नगरी – दुर्ग
छत्तीसगढ़ की नृजातीय म्यूजियम – जगदलपुर
युगल जोड़े की पसंदीदा जगह – मनगट्टा वन्य जिव पार्क – राजनांदगांव

छत्तीसगढ़ में विशिष्ट क्षेत्र

छ.ग. का सबसे चौड़ा जलप्रपात – चित्रकोट जगदलपुर
छ.ग. का सबसे ऊँचा जलप्रपात – तीरथगढ़ जगदलपुर
छ.ग. की सबसे ऊँची चोटी – गौरजाटा ( समरी पाट – बलरामपुर ) 1225 मीटर
सबसे ऊँचा पहाड़ – बैलाडीला पहाड़ ( हेमेटाईट )
सबसे बड़ा राष्ट्रीय उद्यान – गुर घासीदास राष्ट्रीय उद्यान ( 1445 वर्ग की.मी. )
सबसे बड़ा राष्ट्रीय राजमार्ग – एन.एच. 30 (NH 30 )
सबसे छोटा राष्ट्रीय राजमार्ग – एन.एच. 163 A (NH 163 A )
छत्तीसगढ़ का एकमात्र जलमार्ग – शबरी नदी पर – कोंटा से किनावरम ( आँध्रप्रदेश )
छत्तीसगढ़ का सबसे प्राचीन मंदिर – देवरानी जेठानी मन्दिर तालागांव 

Leave a Comment