मौलिक अधिकार-महत्व, विशेषताएं एवं आलोचना

मौलिक अधिकार के बाहर के अधिकार

  • अनुच्छेद 265          – कर ( विधि द्वारा स्थापित कर ही मान्य है)
  • अनुच्छेद 300 (क)   – संपत्ति ( विधिक अधिकार )
  • अनुच्छेद 301          – व्यापार, वाणिज्य तथा समागम
  • अनुच्छेद 326          – व्यस्क मताधिकार

मौलिक अधिकार का महत्व

  1. लोकतंत्र का शशक्तिकरण
  2. राज्य कि स्वेच्छाचारिता पर अंकुश
  3. नागरिकों कि रक्षा – शोषण तथा अन्याय
  4. अल्पसंख्यकों को भी अधिकार 
  5. सामाजिक व राजनितिक अधिकार 
  6. सामाजिक समानता

मौलिक अधिकार-महत्व, विशेषताएं एवं आलोचना

मौलिक अधिकार-महत्व, विशेषताएं एवं आलोचना

मौलिक अधिकार की विशेषताएं

  1. कुछ अधिकार केवल नागरिकों को – अनुच्छेद 15,16,19,29 तथा अनुच्छेद 30
  2. न्याययोग्य
  3. सर्वोच्च न्यायालय के द्वारा रक्षा
  4. स्थायी नहीं तथा सीमित
  5. राज्य के विरुद्ध नकारात्मक
  6. निलंबन योग्य

मौलिक अधिकार की आलोचनाएँ

  1. प्रतिबन्ध
  2. भाषा
  3. खर्चीला उपचार
  4. स्पष्ट दर्शन
  5. निलंबित
  6. निवारक निरोध 

Leave a Comment